गुदा मैथुन क्या है?कैसे करे गुदा मैथुन?गुदा खिलोनो के प्रकार?गुदा मैथुन करने फायदे नुक्सान?

भारतीय यौन खिलौने के साथ दैनिक उत्तेजना

गुदा मैथुन क्या है?

गुदा मैथुन क्या है?

गुदा मैथुन एक अलग प्रकार से सम्भोग करने की क्रिया होती है। इस क्रिया को करने से सेक्स करने की दिलचस्पी बढ़ती है और बिल्कुल नई सम्भोग क्रिया कर के सेक्स का आनंद प्राप्त कर सकते है। गुदा मैथुन यानि की पुरुष लिंग को महिलाओं की योनि में ना डालकर गुदा में डाला जाता है उसे गुदा मैथुन कहते है। गुदा मैथुन का इतिहास बहुत ही पुराना है वात्सायन जिन्होंने कामसूत्र की रचना की है गुदामैथुन को संभोग का एक प्रकार बताया है| लोग पुराने समय सेक्स खिलोनोको उपयोग करते आ रहे है कुछ लोग भारतीय खिलोनोका उपयोग करते है गुदा मैथुन करने से दोनों साथी को आनंद मिलता है।गुदा मैथुन करने से पुरुषों को आनंद की प्राप्ति होती है। गुदा महिलाओं की योनि से ज्यादा टाइट होता है जिसे लिंग को टाइटनेस महसूस होती है जिससे पुरुष को सेक्स करने में आनंद की प्राप्ति होती है। पुरुषो के भांति महिलाओं को गुदा मैथुन का आनंद इसलिए आता है क्योंकि गुदा पर बहुत सारी तंत्रिकाएं आकर समाप्त होती हैं और जब एक साथ इन में घर्षण उत्पन्न होता है तो एक अलग ही आनंद की अनुभूति होती है। गुदा मैथुन करने से सेक्स उत्तेजना और आनंद प्राप्त होता है।

कैसे करे गुदा मैथुन?

कैसे करे गुदा मैथुन?

यदि पहेली बार गुदा मैथुन करने जा रहे है तो थोड़ी सावधानी के साथ यह करना चाहिए क्युकी योनि की तरह गुदा में अपने आप चिकनाई नहीं होती है। सूखा पन होने के कारण मैथुन करते समय पीड़ा होती है। यदि महिला- पुरुष गुदा मैथुन करना चाहते है, तो लिंग को गुदा में डालने से पहले महिला साथी के गुदा को ऊँगली से सहलाना चाहिए, गुदा की मासपेशियो को थोड़ी मुलायम लचीली बनाने का प्रयास करे और साथी की उत्तेजना को देखते हुए आगे बढ़ना चाहिए। गुदा में लिंग डालना मुश्किल होता है उस समय लुब्रिकेंट या कोई भी चिकना पर्दार्थ लगा कर गुदा में लिंग को डाल सकते है। इसे लिंग को गुदा में डालने में आसानी होगी और महिला को पीड़ा भी नहीं होगी। गुदा मैथुन कोई भी कर सकता है| समलिंग जोड़ेभी गुदा मैथुन कर सकते है। गुदा मैथुन करने से सेक्स खिलोनो का उपयोग भी कर सकते है। गुदा मैथुन के दौरान अधिक चिकनाई युक्त कंडोम का उपयोग कर सकते है, इससे सेक्स करने आसनी हो जाती है। गुदा मैथुन करने में कोई जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए प्रत्येक बार धीरे धीरे शुरुआत करनी चाहिए साथी की उत्तेजना को बढ़ता हुआ देख रफ्तार तेज करनी चाहिए।

गुदा खिलोनो के प्रकार ?

गुदा खिलोनो के प्रकार ?

गुदा मैथुन करते समय सेक्स खिलोनो का उपयोग कर सकते है। सेक्स खिलोने कई प्रकार के होते है| महिलयो के सेक्स खिलोनेलिए अलग होते है| पुरुषो के सेक्स खिलोनेलिए अलग होते है कई खिलोने ऐसे भी भी होते है जिनका उपयोग दोनों साथी कर सकते है जैसे गुदा खिलोने -गुदा खिलोने विभिन्न आकर-प्रकार के होते है जिनका उपयोग कर गुदा मैथुन कर सेक्स का आनंद ले सकते है। गुदा खिलोने के उपयोग करने सेक्स की उत्तेजना बढ़ाने के लिए किया जाता है। गुदा खिलोने महिला - पुरुष दोनों के लिए होते है जैसे - बट प्लग, डिलडो अनल बीडेड बट प्लग , रंपी अनल प्लग , पोनी टेल बट प्लग ,नॉटी सिलिकॉन बट प्लग आदि कई गुदा खिलोने होते है जिनका उपयोग समलैगिंक जोड़े भी कर और सेक्स का आनंद प्राप्त कर सकते है।

गुदा मैथुन करने फायदे ?

गुदा मैथुन करने फायदे ?

एक ही प्रकार से सम्भोग क्रिया कर के लोग ऊभ जाते है। अलग अलग तरिके से सेक्स करने से आनंद और दिलचस्पी बढ़ी रहती है। गुदा मैथुन करना कई लोग पसंद करते है तो कई इसे गन्दा मानते है कई पुरुषो को गुदा मैथुन योनि मैथुन करने से भी ज्यादा आनंद आता है क्युकी यह यह योनि से क़ाफीकठोर होता है इसमें लिंग को और अधिक बल के साथ डालना पढ़ता है । पुरुष गुदा मैथुन काफी पसंद करते है।गुदा मैथुन करने से कई फायदे होते है । गुदा मैथुन करने से रक्त का परवाह होने लग जाता है। मासपेशियो की सफाई हो जाती है। सम्भोग क्रिया करने में दोनों साथी को आनंद आता है। गुदा मासपेशियो में जो गंदगी होती है वह साफ़ हो जाती है। गुदा खिलोनो का उपयोग कर सेक्स की उत्तेजना को बढ़ा सकते है। जिन लोगो गर्भधारण होने का डर होता है उनके लिए गुदा मैथुन करना बहुत ही लाभ दायक होता है गुदा मैथुन करने से गर्भधारण नहीं होता है इसलिए बिना किसी डर के गुदा मैथुन कर के सेक्स का आनंद लिया जा सकता है।

गुदा मैथुन करने के नुक्सान ?

गुदा मैथुन करने के नुक्सान ?

गुदा मैथुन करते समय कोई जल्दबाजी उतावलपन्न नहीं होना चाहिए |गुदा मैथुन करने से नुक्सान होने का भी डर हो सकता है। गुदा केवल मल त्यागने के काम करता है योनि की तरह इसमें चिकनाई नहीं होती है। गुदा मैथुन में दर्द अधिक होता है क्योंकि गुदाद्वार छोटा होता है और उसमें प्राकृतिक चिकनाई भी नहीं होती गुदा काफी कठोर होती है, बाहर से सख्त अंदर से काफी कमजोर होती है । गुदा मैथुन करते समय कई महिलाओं को योनि से ज्यादा गुदा में दर्द होने की समस्या होती है । गुदा मैथुन करने से संक्रमण होने का डर अधिक रहता है। गुदा मैथुन करने से लिंग और गुदा में घाव होने का डर रहता है। गुदा मैथुन करते समय सफाई का ध्यान नहीं रखते है तो बैक्ट्रिया के का कारण संक्रमण हो सकता है ।

गुदा खिलोनो का उपयोग ?

गुदा खिलोनो का उपयोग ?

गुदा मैथुन करना काफी लोग पसंद करते है तो कई लोग नहीं करते गुदा मैथुन का मतलब केवल गुदा में लिंग डालना ही नहीं होता गुदा मैथुन में सेक्स खिलोने भी गुदा में दाल सकते है गुदा में डालने के विभिन्न प्रकार के सेक्स खिलोने उपलब्ध जिनका उपयोग गुदा मैथुन करते समय कर सकते है और सेक्स का आनंद ले सकते है। गुदा मैथुन केवल महिला पुरुष नहीं बल्कि समलैगिंक जोड़े भी करते है इसलिए सेक्स खिलोनो का उपयोग समलैगिंक जोड़े भी कर सकते है। गुदा में खिलोने डालने से सेक्स की उत्तेजना को बढ़ाया जा सकता है ऐसे कई सरे खिलोने है जो सेक्स की उत्तेजना बढ़ने के काम करते है जैसे बट प्लग, अनल बीडेड, वाइब्रेट डिलडो

बट प्लग

यह डिलडो से छोटे आकर का होता है इसका उपयोग महिला - पुरुष दोनों कर सकते है गुदा में डालते समय लुब्रिकेंट लगाकर गुदा में डाला जाता है।

अनल बीडेड

यह खास गुदा में डालने के लिए बनाया गया है इसमें एक तार में छोटी छोटी बॉल जुडी हुई होती है जो एक एक करके गुदा में डाला जाता है यह साथी दुवरा ही गुदा में डाला जाता है और गुदा में डालकर रखा जाता है धीरे धीरे एक एक बाल बहार निकली जाती है जैसे बॉल बहार निकलती है वैसे - वैसे उत्तेजना बढ़ती जाती है

पोनी टेल बट प्लग

यह गुदा खिलौना होता यह घोड़े की पूंछ की तरह होती है गुदा में डालने के बाद यह पूंछ की तरह बहार रहती है इसे पकड़ कर गुदा से निकलने में आसानी होती है यह पूरा अंदर नहीं जाता है

गुदा मैथुन करते समय सावधानियाँ ?

गुदा मैथुन करते समय सावधानियाँ ?

गुदा मैथुन करते समय काफी सावधानी रखनी चाहिए। गुदा में लिंग डालने से पहले अंगुली से से गुदा मासपेशियो को लचीला बना ले। गुदा मैथुन करते समय लुब्रिकेंट का इस्तेमाल करना चाहिए। लुब्रिकेंट लगाने से लिंग आसानी से गुदा में चला जाता है। गुदा खिलोनो पर लुब्रिकेंट लगाकर ही गुदा में डालना चाहिए गुदा मैथुन में सफाई होना बहुत आवश्यक होता है। बैक्ट्रिया से संक्रमण हो सकता है। गुदा मैथुन करने के बाद गुदा को साफ़ कर लेना चाहिए क्युकी गुदा में निकला हुआ वीर्य योनि में चला जाता है तो गर्भधारण हो सकता है। गुदा मैथुन की शुरुआत धीरे-धीरे करें और हो सके तो पहले गुदा में उंगली को प्रवेश कराएं और उसके बाद लिंग को धीरे-धीरे गुदा में प्रवेश कराएं जिससे गुदा मैथुन का भरपूर आनंद ले सकेंगे हमेशा गुदा मैथुन करते समय कंडोम का इस्तेमाल करना चाहिए इससे आप यौन संचारित रोगों से बचा जा सकता है और लिंग को चोटिल होने से भी बचा पाएंगे। यदि गुदा मैथुन के साथ ही योनि मैथुन भी करते हैं तो अधिक सावधानी की आवश्यकता होती है जब भी गुदा मैथुन के बाद योनि मैथुन करें रहे है तो नए कंडोम का उपयोग करें जिससे योनि में होने वाले संक्रमण से बच सकते हैं